प्रतिभा पलायन की समस्या

प्रतिभा हर व्यक्ति में होती है और देश की प्रतिभा उसके व्यक्तियों में छपी होती है। हर देश में व्यक्ति अपनी-अपनी तरह से प्रवीण होते ही हैं। हमारा देश एक समृद्ध देश है, इसमें बहुत सारे प्रतिभावान व्यक्ति हैं। जिनमें चित्रकार, संगीतकार, कलाकार, इंजीनियर और डॉक्टर मौजूद हैं। इसके साथ ही हमारा देश विकासशील देश है, इसमें आज भी बेरोजगारी की समस्या विद्यमान है। इसलिए देश के प्रतिभावान लोग अपने देश को छोड़कर विदेश चले जाते हैं। जहाँ पर उनके काम की उनको सही-सही कीमत मिल जाती है। सही तौर पर हमारे देश के प्रतिभावान व्यक्तियों का देश से बाहर जाना विशेषकर पैसों के लिए ही है। वह अपना पूरा परिवार ही बाहर बसा लेते हैं। इस समस्या को प्रतिभा पलायन की समस्या का नाम दिया गया है।
हमारा देश, जोकि डॉक्टरों और इंजीनियरों की पढ़ाई पर इतना खर्च उठाता है उसे लगभग मुफ्त में ही सारी सामग्री उपलब्ध कराता है। जिससे वे सफल होकर देश के विकास में कार्यरत हों और देश को विकसित देशों की श्रेणी में लाकर खड़ा करने में सहयोग करें। परन्तु इसके विपरित हमारे देश के सफल डॉक्टर और इंजीनियर अपनी पढ़ाई पूरी करने के पश्चात अपना देश छोड़कर बाहर चले जाते हैं। क्योंकि हमारे देश में डॉक्टरों और इंजीनियरों जैसे बहुत सारे उच्च शिक्षित वर्ग को पैसे देने के लिए उतना कोष नहीं है, जितना कि विकसित राष्ट्रों जैसे- अमेरिका, फ्रांस और इंग्लैंड आदि में है।

Post a Comment

0 Comments